Birth of Satyagraha’: Sushma travels to Pietermaritzburg


External Affairs Minister undertook a train journey on Thursday from Pentrich to Pietermaritzburg
विदेश मंत्री ने गुरुवार को पेंट्रिच से पिटर्मैरिट्जबर्ग तक एक ट्रेन यात्रा की
 
It is a railway station in South Africa where a young Mahatma Gandhi was thrown out of a “Whites-only” compartment 125 years ago
यह दक्षिण अफ्रीका में एक रेलवे स्टेशन है जहां युवा महात्मा गांधी को 125 साल पहले "केवल गोरों ले आरक्षित" डिब्बे से बाहर फेंक दिया गया था
 
What happened to Gandhi that led to the birth of the transformational idea 
गांधी के साथ क्या हुआ जिससे परिवर्तनकारी विचार का जन्म हुआ
On the night of June 7, 1893, Mohandas Karamchand Gandhi, then a young lawyer, was thrown off the train’s first class compartment at Pietermaritzburg station after he refused to give up his seat as ordered by racially prejudiced officials
7 जून 1893 को गांधी जी तब एक युवा वकील थे। जब उन्होने अपनी सीट छोड़ने को मना कर दिया तब उनको पिटर्मैरिट्जबर्ग स्टेशन पर एक नस्लीय पूर्वाग्रह अधिकारी के आज्ञा पर बाहर फेंक दिया गया था  
 
The incident led him to develop his Satyagraha principles of peaceful resistance and mobilize people in South Africa and in India against the discriminatory rules of the British
इस घटना ने उन्हें शांतिपूर्ण प्रतिरोध के अपने सत्याग्रह सिद्धांतों का विकास करने और अंग्रेजों के भेदभावपूर्ण नियमों के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका और भारत में लोगों को संगठित करने का काम किया।


No comments